सौर सुजला योजना: चिरस्थायी कृषि के लिए सौर इरिगेशन पंप की पहल

सौर सुजला योजना एक महत्वपूर्ण कदम है जो छत्तीसगढ़ राज्य में किसानों की समृद्धि का माध्यम बन रहा है। इस योजना के अंतर्गत सौर इरिगेशन पम्प स्थापित किए जा रहे हैं ताकि किसानों को सब्सिडाइज्ड दरों पर प्राप्त हो सके। इस योजना की शुरुआत 1 नवंबर, 2016 को की गई थी और इसका उद्देश्य कृषि पंप को किसानों को सस्ते दरों पर प्रदान करके किसानों को सशक्त बनाना है।

सौर पंप का उपयोग राज्य में कृषि उत्पादन में वृद्धि करने में मदद करेगा, साथ ही भूजल की संरक्षण और वृद्धि में भी सहारा प्रदान करेगा और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करेगा। इस योजना के तहत, 03 एचपी और 05 एचपी क्षमता के सौर पंप स्थापित करने का प्रावधान है।

सौर सुजला योजना का कार्यान्वयन छत्तीसगढ़ राज्य नवीन ऊर्जा विकास एजेंसी (सीआरईडीए – छत्तीसगढ़ राज्य नवीन ऊर्जा विकास एजेंसी) द्वारा किया जा रहा है। इस योजना के तहत चयनित लाभार्थियों को कृषि विभाग द्वारा चयन किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत अब तक 01 लाख से अधिक सौर पंप स्थापित किए गए हैं।

इस योजना के लाभ

सौर सुजला योजना के तहत सौर पंप स्थापित करने के लिए लाभार्थी द्वारा दिए जाने वाले योगदान (हितग्राही का अंशदान) का विवरण वर्गवार निम्नलिखित है:

क्रमांकपंप क्षमता/प्रकारअनुसूचित जाति/जनजाति लाभार्थी का योगदानअन्य पिछड़ा वर्ग लाभार्थी का योगदानसामान्य लाभार्थी का योगदान
103 एचपी/ एसी/डीसी सरफेस/सबमर्सिबल70001200018000
205 एचपी/एसी/डीसी सरफेस/सबमर्सिबल100001500020000

इसके अलावा, उपरोक्त लाभार्थी योगदान के रूप में प्रति वॉट की दर पर (03 एचपी/3000 डब्ल्यू. और 05 एचपी/4800 डब्ल्यू.) प्रसंस्करण शुल्क की राशि भी देनी होती है।

योजना की पात्रता

इस योजना के लिए छोटे/मध्यम/बड़े स्तर के किसानों को आवेदन करने का प्राधिकृत्य है। किसान को छत्तीसगढ़ राज्य का निवासी होना चाहिए।

आवेदन प्रक्रिया

  • ऑनलाइन
  • ऑफलाइन

पहले आवेदकों को आधिकारिक वेबसाइट खोलनी होगी। “Saur Sujala Yojana Online Apply” पर क्लिक करें। अगले विंडो में योजना का नाम चुनें। आवश्यक विवरण भरें। बैंक विवरण प्रदान करें और सबमिट करें।

आवश्यक दस्तावेज़

  • यह अनिवार्य है कि लाभार्थी के पास खुद का कृषि भूमि और जल स्रोत (बोरवेल, कुएं, नदी/नाला आदि) हो।
  • आवेदन पत्र।
  • पते का सबसे हाल का प्रमाणपत्र की प्रमाणित फोटोकॉपी।
  • पहचान पत्र की प्रमाणित फोटोकॉपी।
  • क्षेत्र और कार्यस्थल के आदेश और प्रमाणित नक्शे की प्रमाणित फोटोकॉपी।
  • जाति प्रमाण पत्र की प्रमाणित फोटोकॉपी।
  • प्रसंस्करण शुल्क की राशि।
  • लाभार्थी के दो फोटो।

सौर सुजला योजना ने किसानों को नई ऊर्जा स्रोतों के साथ जोड़ने का एक अद्वितीय मौका प्रदान किया है और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में कदम उठाया है। यह योजना कृषि में वृद्धि को बढ़ावा देने के साथ-साथ जल संरक्षण और वृद्धि में साहायक होने के लिए भी एक बड़ा कदम है। इसके माध्यम से छत्तीसगढ़ राज्य में बढ़ती हुई कृषि उत्पादन और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुधारा जा रहा है।

सौर सुजला योजना के अंतर्गत विभिन्न पंप क्षमताओं के विवरण और लाभार्थियों के योगदान के विवरण से स्पष्ट होता है कि यह योजना सभी वर्गों के किसानों को समर्थन प्रदान कर रही है। आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के किसानों को सब्सिडी प्रदान करने के माध्यम से उन्हें यह योजना उपयोग करने का एक सुनहरा अवसर मिल रहा है।

योजना के आवेदन प्रक्रिया को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से पूरा किया जा सकता है, जिससे किसानों को सुविधा मिलती है। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आवेदकों को सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवश्यक जानकारी भरनी होती है और ऑफलाइन आवेदन करने के लिए वे अपने स्थानीय कृषि विभाग से संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top